संपर्क सूत्र - (0731) 2361056    ईमेल - contact@redcrossindore.org, redcrossindore@mp.gov.in
||


रेडक्रास एक ऐच्छिक अन्तर्राष्ट्रीय संगठन है जो वर्ष 1863 में  युद्ध भूमि पर जख्मी और पीडि़तों को सहायता प्रदान करने के लिए स्थापित किया गया था। रेडक्रास मानवता, निष्पक्षता, तटस्थता, स्वतंत्रता, स्वयं प्रेरित सेवा, एकता एवं सार्वभौमिकता के सिद्धान्तो को आत्मसात किया गया है। भारतीय रेडक्रास सोसायटी अधिनियम 1920 में पारित किया गया है जो शारीरिक स्वास्थ्य की उन्नति, रोगों का प्रतिबन्ध और पीडि़तों की सहायता पर बल देता है।

भारतीय रेडक्रास सोसायटी की 700 से अधिक सभी राज्यों में जिला शाखाए है;भारतीय रेडक्रास सोसायटी जिला शाखा इन्दौर उन्ही में से एक है जो वर्ष 1980 से संचालित है | भारतीय रेडक्रास सोसायटी जिला शाखा इन्दौर के एम.ओ.जी. लाईन स्थित कार्यालय का लोकार्पण वर्ष 2000 में तत्कालीन कलेक्टर महोदय एम.गोपाल रेड्डी द्वारा किया गया | दिनांक 1 नवंबर 2014 को यह कार्यालय प्रशासनिक भवन ,मोती तबेला में स्थानातरित किया गया|

 

प्रिय साथियों,

रेडक्रॉस एक ऐच्छिक अंतर्राष्ट्रीय संगठन है जो वर्ष 1863 में युद्धभूमि पर जख्मी और पीड़ितों को सहायता प्रदान करने के लिए स्थापित किया गया था | भारत में वर्ष 1920 में पार्लियामेंट्री एक्ट के तहत भारतीय रेडक्रॉस सोसाइटी का गठन हुआ | रेडक्रॉस संगठन के मानवता, निष्पक्षता, तटस्थता, स्वतंत्रता, स्वयं प्रेरित सेवा, एकता एवं सर्वभौमिकता के सिद्धांतों को आत्मसात करते हुए भारतीय रेडक्रॉस सोसाइटी, जिला शाखा इंदौर विगत कई वर्षों से इस क्षेत्र में निरंतर अपनी सेवाएँ जैसे गरीबों एवं जरुरतमंद व्यक्तियों के लिए धनराशि की व्यवस्था, निशुल्क दवाई वितरण, एम्बुलेंस वाहन, ब्लड डोनेशन शिविर, आँगनवाड़ी केंद्र के बच्चों के लिए फिजियोथेरेपी की व्यवस्था इत्यादि दे रही है | 
इस वेबसाइट का निर्माण जिला प्रशासन की ओर से प्रयास है अधिक से अधिक नागरिकों को इस संगठन से जोड़ने का, ताकि संगठन द्वारा उपलब्ध सेवाओं का अधिक से अधिक लोग लाभ उठा सकें | 

सस्नेह,

( पी नरहरि )


इंटरनेशनल कमिटी ऑफ़ द रेड क्रॉस (ICRC) की स्थापना 1863 में जीन हेनरी दुनांत (8 मई 1828 - 30 अक्टूबर 1910), जिन्हें हेनरी दुनांत के नाम से भी जाना जाता है, ने की थी | जीन हेनरी दुनांत एक स्विस व्यापारी तथा सामाजिक कार्यकर्ता थे | 1869 में एक व्यापारिक यात्रा के समय वे इटली में सल्फरिनो के युद्ध के बाद होने वाली तबाही के गवाह बने | उन्होंने इस अनुभव को अपनी पुस्तक “ए मेमोरी ऑफ़ सल्फरिनो” में लिखा है तथा इससे प्रेरित होकर इंटरनेशनल कमिटी ऑफ़ द रेड क्रॉस (ICRC) की स्थापना की |